Thursday 13 September 2012

एक तू ही अकेला नहीं है

सोच कर क्या दुखी हो रहा मन ,
साथ तेरे जो मेला नहीं है /
तेरे जैसे है कितने अकेले ,
एक तू ही अकेला नहीं है /

मुश्किलें क्या जो कोई न अपना ,
दर्द क्या जो गया टूट सपना ,
वक्त कब किसका होके रहा है ,
साथ किसके ये खेला नहीं है /


रंग मौसम बदलता रहेगा ,                                                         
ये सफ़र फिर भी चलता रहेगा ,
दुनिया के रंग मे  तू भी रंग जा ,
साथ किसके झमेला नहीं है /

22 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  2. अच्छी रचना जो अपने आप में जिन्दगी के सच को समेटे है

    ReplyDelete
  3. मुश्किलें क्या जो कोई न अपना ,
    दर्द क्या जो गया टूट सपना ,
    वक्त कब किसका होके रहा है ,
    साथ किसके ये खेला नहीं है ..

    सभी के साथ है ये जीवन का खेल ... सच कहा है ... प्रभावी रचना ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  4. सशक्त प्रस्तुति.....

    ReplyDelete
  5. साथ किसके झमेला नहीं है.....sahi kahe.

    ReplyDelete
  6. एक तू ही अकेला नही है, सच । सुंदर कविता ।

    ReplyDelete
  7. प्रेरणादायक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. मुश्किलें क्या जो कोई न अपना ,
    दर्द क्या जो गया टूट सपना ,
    वक्त कब किसका होके रहा है ,
    साथ किसके ये खेला नहीं है /

    ...जीवन का यथार्थ दर्शाती बहुत प्रेरक रचना..

    ReplyDelete
  9. सोच कर क्या दुखी हो रहा मन ,
    साथ तेरे जो मेला नहीं है /
    तेरे जैसे है कितने अकेले ,
    एक तू ही अकेला नहीं है /
    beautiful lines

    ReplyDelete
  10. जीवन के खेले का बखूबी बयाँ इसी तरह जिया करते हैं ,लोग जहाँ में, बधाई ,सुन्दर पंक्तियाँ रचने के लिए|

    ReplyDelete
  11. अच्छा लिख रहे हैं आप ! बधाई !

    ReplyDelete


  12. अच्छी रचना है …
    बधाई !

    अगली रचना की प्रतीक्षा रहेगी…
    शुभकामनाएं…

    ReplyDelete


  13. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
  14. उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  16. .....बेहतरीन अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  17. prernadayak kavita. bahut sunder.

    ReplyDelete
  18. वाह ! बहुत बढ़िया प्रस्तुति . आभार . नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं .

    कृ्प्या विसिट करें : http://swapniljewels.blogspot.in/2014/01/blog-post_5.html

    http://swapniljewels.blogspot.in/2013/12/blog-post.html

    ReplyDelete