Saturday 13 November 2010

कैसा हो गया मेरा गाँव


कैसा हो गया मेरा गाँव
सड़क के मायाजाल में गुम है प्यार की पगडंडी
दिल का दरवाजा बंद किए है मतलब की कुंजी
तेज धुप है गरम हवा है कहीं न दिखता छांव
कैसा हो गया मेरा गाँव
रमई का सिरदर्द यही पानी कैसे रोके
मगरू प्रधान का बहुत ख़ास उसको कैसे टोंके
चला रहे सब एक दूजे पर अपने अपने दाँव
कैसा हो गया मेरा गाँव

पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर
घायल है मखमली सतह पर जाने क्यों हर पाँव
कैसा हो गया मेरा गाँव

34 comments:

  1. अब शहरीपन आ गया है गाँव में भी ..

    ReplyDelete
  2. गाँव का सरल स्वरूप हज़म कर गयी आधुनिकता।

    ReplyDelete
  3. घायल है मखमली सतह पर जाने क्यों हर पाँव..
    shaandaar prastuti !

    ReplyDelete
  4. पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर ...

    ये तो पूरे देश का हाल है ... सब आधुनिकवाद के शिकार हैं ...

    ReplyDelete
  5. यही बात तो समझ नहीं आती है, वर्मा जी क्यों हो रहा ऐसा दिल की बात कह दी आपने, अच्छी पोस्ट

    ReplyDelete
  6. गाँव तो अब नाम के रह गये है
    बहुत अच्छी रचना है

    ReplyDelete
  7. वाकई ... कैसा हो गया मेरा गाँव.... सच में ... अभी भी याद आता है दादी का घर .... काश मैं कभी अपने बेटे को वैसा घर वैसा गाँव दिखा सकूँ ... :(

    ReplyDelete
  8. पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर
    घायल है मखमली सतह पर जाने क्यों हर पाँव
    कैसा हो गया मेरा गाँव...

    विजय जी गाँव अब प्रगति के मार्ग पर है और आप शिकायत कर रहे हैं .....?
    हाँ वो पहले सा कुछ नहीं रहा अब .....
    बस उसी की कमी खलती है ...
    गाँव अब गाँव सा नहीं लगता .....
    सुंदर भाव .....!!

    ReplyDelete
  9. गाँव की व्यथा-कथा है
    रमई वाकई दुखी है

    ReplyDelete
  10. गाँव तो वहीँ हैं, पर उनकी सोंधी खुशबू खो रही है..अच्छी कविता..बधाई.

    _________________
    'शब्द-शिखर' पर पढ़िए भारत की प्रथम महिला बैरिस्टर के बारे में...

    ReplyDelete
  11. विजय बाबू... तरक्की के नाम पर गाँव का मासूमियत छिनने वाले से अब कौन पूछे कि तरक्की किसका हुआ है और कौन आज भी दो जून का रोटी के लिए नरेगा और मनरेगा का सपना पर धोखा खा रहा है... बहुत बढ़िया बरनन है!!

    ReplyDelete
  12. सच मे देखते ही देखते कितना कुछ बदल गया कितनी हैरानी होती है कि हम केवल मूक दर्शक ही बने रह गये। वो सरल सुन्दर जीवन हम से छिन गया। अच्छी लगी रचना। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  13. हाँ ! सच ही कहा ....कैसा हो गया है हमारा गाँव .... अब पहले वाली कोई बात ही नहीं रह गयी ... निराशा ही होती है ...... यथार्थपरक .. सुन्दर रचना .. शुभकामना..

    ReplyDelete
  14. Vermaji ,
    Sach me ab " Aha Gramya jeevan bhee kya hai ?" Vali baaten kahan raheen?Vastu -Sthiti ka EXRAY hai yah kavita.

    ReplyDelete
  15. अब गाँव मैं पहले जैसी अहेजता और सरलता कहाँ ...शहरीपन ने अब कुछ लील लिया है ...सुंदर रचना
    चलते -चलते पर भी आपका स्वागत है ,

    ReplyDelete
  16. पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर

    गांव भी तो तरक्की की राह पर है उनका भी शहरीकरण हो रहा है। अच्छा लिखा है

    ReplyDelete
  17. गाँव तो अब नाम के रह गये है
    बहुत अच्छी रचना है

    पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर

    ये तो पूरे देश का हाल है ... सब आधुनिकवाद के शिकार हैं ...
    वाकई ... कैसा हो गया मेरा गाँव.... सच में ... अभी भी याद आता है

    ReplyDelete
  18. हरियाली शीतलता शोषित करती शहरी सोच
    वाह अदभुत चित्रण मेरा गांव भी ऐसा ही हो गया है

    ReplyDelete
  19. पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर
    घायल है मखमली सतह पर जाने क्यों हर पाँव
    कैसा हो गया मेरा गाँव

    bahoot sahi kaha aapne..... bas sab aadhunikata aur fashion le dooba. fir bhi abhi shaharo ke mukabale to pyar muhabbat jyada hi hai.

    ReplyDelete
  20. सड़क के मायाजाल में गुम है प्यार की पगडंडी!
    सुन्दर पंक्ति!
    कैसा हो गया मेरा गाँव , यह एहसास बहुत कुछ कहता है ... यहीं से शायद सहेजने योग्य सुन्दर भावों को पुनः जीने का मार्ग प्रशस्त होगा!

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी कविता है भाई।
    वर्तमान परिस्थितियों पर अपने गांव-परिवेश के संबंध में बहुत दिनो बाद अच्छी कविता पढ़ने को मिली।

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्‍छा, शब्‍दों में भावनाएं भरने की अद़भुत कला। आपने हमें भी अपने गांव की यादें ताजा करा डाली। हमें तो लगता है कि अब शहरों से अधिक बुरी स्थिति गांवों की हो गयी है। शहरों से तो हमने कभी कोई अपेक्षा ही नहीं रखी, इसलिए इसका बदलाव हमें व्‍यथित नहीं करता। लेकिन गांव शब्‍द मन में आते हीं लोगों का प्‍यार, चाचा-दादा-काका.. अनगिनत रिश्‍तें वह भी बिना किसी जाति-पाति के, खेत-खलिहान, सबका सबके घरों तक आना-जाना, ठंड के दिनों में एक साथ बैठकर आग सेंकना आदि बातें ताजी हो जाती हैं। पर, अब यह बातें अब पुरानी हो चली है। इस समय जब भी गांव जाता हूं, शहरों से अधिक रिजर्व लोग मिलते हैं। कुटनीतिक चालें, राजनीति सबकुछ गांव के अंदर समाहित हो गयी है और गांववासियों का आपसी प्‍यार कही दूर छूट चला है, छूटता ही जा रहा है।

    आपने हमारे दिल की बात उन तक पहुंचाने की जो दुआ मांगी- उसके लिए आपका आभारी हूं।

    ReplyDelete
  23. कैसा हो गया मेरा गाव ........अब गाव ,गाव जैसे कहा रहे !पहले जब गर्मी की छुट्टियों में नानी के घर जाते थे उन दिनों कपाल ,गाव में बिताये दिन आज भी जेहन में है!

    ReplyDelete
  24. jis aspect se aapne ganw ko chitrit kiya hai us aspect se jab bhi dekhta hun to ganw ke saharikaran se nafrat hoti hai..achhi rachna..

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत. मजा आगया पढ़कर. शुक्रिया.
    ---
    कुछ ग़मों के दीये

    ReplyDelete
  26. Bahut hi acchi rachna. Sach me har ek gaon ka yahi haal hai aajkal.

    ReplyDelete
  27. विजय जी,

    बहुत सुन्दर तरीके से कल और आज को उभरती पोस्ट ....ये पंक्तियाँ बहुत पसंद आयीं -

    "पक्के घर हो गए सभी इन्सान हुआ पत्थर
    आपस में संबाद नहीं बाकी सब कुछ बेहतर
    घायल है मखमली सतह पर जाने क्यों हर पाँव
    कैसा हो गया मेरा गाँव"

    ReplyDelete
  28. सड़क के मायाजाल में गुम है प्यार की पगडंडी
    दिल का दरवाजा बंद किए है मतलब की कुंजी
    तेज धुप है गरम हवा है कहीं न दिखता छांव
    कैसा हो गया मेरा गाँव
    ..ek tees see uthti hai gaon ke aaj ke haalaton ke dekh..
    bahut achhi saarthak rachna ke liye aabhar

    ReplyDelete
  29. अति सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  30. अति सुन्दर रचना।

    ReplyDelete