Saturday 18 September 2010

अक्सर वो बुलाना उसका

कभी यादो में ,कभी ख्वाबों में जाना उसका
एक हलचल सी ,मचाती है ,याद आना उसका

धूप में जिन्दगी के ,पाँव जब जलते होते ;
छाँव में पलकों के ,अक्सर वो बुलाना उसका

चोर कह करके ,हौले से वो बदन का ढकना ;
और फिर खुद ही ,दुपट्टा गिरा देना उसका

कई दिनों के बाद मिलने पर भी ,कोई शिकवा गिला ;
मेरी सलामती की बातें ,और रो देना उसका

जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ मिल पाना उसका

विजय कुमार वर्मा

31 comments:

  1. क्या भाव उड़ेले हैं। वाह।

    ReplyDelete
  2. सुंदर भाव...चुपके चुपके रात दिन !!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने !

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरती से मन के भाव कहे हैं ...

    ReplyDelete
  5. जज़्बात पर आपकी टिप्पणी का तहेदिल से शुक्रिया ,.......... एक तस्सवुर की तरह लगी आपकी रचना ...............शुभकामनाये ऐसे ही लिखते रहिये....

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए-
    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/

    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लिखा है आपने.
    आपको ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर रचना है |
    माफ़ करना पर आपकी रचना पढके मेरे मन मैं
    कुछ ख्याल आया और उसको मैंने इन पंक्तियों में लिख दिया है :)

    भूलूं भी तो कैसे भूलूं, मेरी एक आवाज़ पर;
    जेठ की तपती धूप में, छत पर आ जाना उसका

    ReplyDelete
  9. जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
    मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ न मिल पाना उसका

    बहुत खूब .... सच कहा है .... अगर वो नही तो जीवन कुछ भी नही .... बेहतरीन शेर ...

    ReplyDelete
  10. very emotional creation...Thanks.

    ReplyDelete
  11. धूप में जिन्दगी के ,पाँव जब जलते होते ;
    छाँव में पलकों के ,अक्सर वो बुलाना उसका
    शानदार पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने
    ब्लॉग पर आने के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. .

    मेरी सलामती की बातें ,और रो देना उसका....

    A line full of emotions...

    .

    ReplyDelete
  14. नज़्म इसलिए खूबसूरत है क्योंकि लफ़्ज़ों में सच्च बयानी है .....

    चोर कह करके ,हौले से वो बदन का ढकना ;
    और फिर खुद ही ,दुपट्टा गिरा देना उसका

    और फिर न शिकवा न शिकायत ...सलामती की दुआ में रो देना ....
    इक पाक मुहब्बत की दास्तां है आपकी नज़्म .....!!

    ReplyDelete
  15. धूप में जिन्दगी के ,पाँव जब जलते होते ;
    छाँव में पलकों के ,अक्सर वो बुलाना उसका

    बहुत खूबसूरत एहसास हैं, खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  16. ख़ूबसूरत भावपूर्ण अशआर हैं.

    ReplyDelete
  17. कई दिनों के बाद मिलने पर भी ,कोई शिकवा न गिला ;
    मेरी सलामती की बातें ,और रो देना उसका

    जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
    मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ न मिल पाना उसका

    bahut hi chhuti hui panktiyan..........
    rachna behat achhi hai...........

    ReplyDelete
  18. Lovely poem :)..Keep up thr good work:)

    ReplyDelete
  19. जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
    मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ न मिल पाना उसका
    bahut pyaari rachna

    ReplyDelete
  20. sundar rachna ke liye
    dhnyavad

    ReplyDelete
  21. Vermaji,
    Aapki sabhi rachnayen bahut achchi hai,satik rachnaon per tipnikaron ka akal tha ath wahan-2 mainey aapka samarthan kar diya hai apna FARZ samajh kar.

    ReplyDelete
  22. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है, हर एक शे‘र अनमोल।

    ReplyDelete
  23. Vermaji,
    Ajaiji ki gathri per gandhiji ke sambandh me apki satya-vani padh kar aapkey blog per pahuncha tha,rozana nai rachna ka intzar rahta hai.

    ReplyDelete
  24. Vermaji,
    Ajaiji kiGathri per Gandhiji wali aapki rachna dekh kar yahan pahuncha aur rozana nai rachna ka intzar kar raha hun.

    ReplyDelete
  25. man ke bhavoo ko badi hi khoobsurati ke saath shabdo me dhala hai.
    जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
    मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ न मिल पाना उसका
    bahut hi pyari gazal---
    poonam

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छा लिखा है, बहुत खूबसूरत ग़ज़ल है

    ReplyDelete
  27. जिन्दगी कितनी अधूरी सी ,आज लगती है ;
    मिल गया सब कुछ ,पर सिर्फ न मिल पाना उसका ..


    भिगो दिया अंदर तक .... बहुत कमाल के शेर लिखे हैं सब ....

    ReplyDelete